रुड़की:चुनावी मौसम के बीच दिवाली का उत्साह चरम पर,चुनाव फिर से रुड़की के दो धुरों के बीच फँसता हुआ।महत्वपूर्ण दावेदारों ने अब तक नामांकन पत्र भी क्यों नहीं खरीदे?

रुड़की नगर निगम चुनाव के लिए नामांकन की तिथि जैसे-जैसे पास आ रही है।उसने मौसम की धीमी ठंड के बीच भी शहर में गर्माहट बरकरार रखी हुई है।कल 25 अक्टूबर के आंकड़ो के अनुसार ही लगभग 20-22 लोगो ने मेयर पद हेतु नामांकन पत्र खरीदा है।साथ ही लगभग 200 से अधिक पार्षद पद हेतु नामांकन पत्र अब तक खरीदे जा चुके हैं।बात यदि मेयर की करें तो नामांकन पत्र खरीदने वालों में श्रेष्ठ राणा, सचिन गुप्ता,राजेंद्र बाडी कांग्रेस से मजबूत दावेदार माने जा रहे है।किंतु बड़ा सवाल यह है कि कांग्रेस से टिकट की दावेदारी करने वाले हंसराज सचदेवा, अशोक चौहान, सुधीर शांडिल्य और आशीष सैनी ने अब तक नामांकन पत्र भी क्यों नही खरीदा?क्या कांग्रेस से यह दावेदार केवल हवा-हवाई थे।
भाजपा की बात करें तो संजय अरोड़ा, पिछले चुनाव में मात्र कुछ वोटो से हारने वाले महेंद्र काला(अरोड़ा), नवीन जैन ने भी नामांकन पत्र खरीदा है।किंतु यहां भी एक बड़ा प्रश्न यही उठता है कि भाजपा से मेयर पद हेतु टिकट की दौड़ में सबसे आगे माने जाने वाले मयंक गुप्ता एवं गौरव गोयल में से किसी ने भी अब तक नामांकन पत्र क्यों नही लिया?क्या इन दोनों को ही पार्टी संगठन पर या अपने कार्यो पर भरोसा नही है?
वही दूसरी ओर रुड़की विधायक प्रदीप बत्रा की पत्नी मनीषा बत्रा के नाम से खरीदे गए नामांकन पत्र ने भी रुड़की की राजनीती में एक नई सुगबुगाहट तेज कर दी है।क्या मनीषा बत्रा भी भाजपा में मेयर पद हेतु टिकट की दावेदारी कर रही हैं?किंतु यदि ऐसा है तो फिर शहर विधायक इन चर्चाओं को नकार क्यों रहे हैं?
खैर जो भी हो किन्तु इस बात में कोई दोराय नही की यदि शहर विधायक की पत्नी के नाम से कोई नामांकन पत्र खरीदा गया है तो वो ऐसे ही तो नही खरीदा गया होगा।इसका अर्थ तो यही है कि आने वाला समय भी रुड़की की राजनीती में और अधिक मनोरंजक होने वाला है।जनता को जिसे चुनना है वो स्वयं चुन लेगी,लेकिन चुनावो की आचार संहिता के बीच दिवाली ने उत्साह को और अधिक बढ़ा दिया है।सही मायनों में टक्कर की बात की जाये तो यदि निर्वतमान मेयर की पत्नी श्रेष्ठा राणा और रुड़की विधायक की पत्नी मनीषा बत्रा चुनाव् लड़ती है,तो बाकी दावेदार मैदान में केवल औपचारिकता भर ही रह जाएंगे और चुनाव फिर से रुड़की की राजनीती के दो पुराने खिलाड़ियों के बीच ही रह जाएगा।

anupamsaini

Read Previous

रुड़की:NHAI की सुस्ती बन रही हादसों की वजह शासन-प्रशासन बना मूकदर्शक,हाइवे क्रॉसिंग की मांग को लेकर 15 दिनों से धरनारत सालियर के ग्रामीण।

Read Next

रुड़की:वार्ड नम्बर 22 कृष्णानगर से प्रिंयका वर्मा ने पार्षद पद हेतु किया नामांकन,प्रियंका और उनके पति वार्ड में है लगातार सक्रिय।