रुड़की:डेंगू के अलावा कई मरीजों का हो रहा था गलत तरीके से उपचार, सीएमओ ने मारा छापा, धनोरी व रामपुर में क्लीनिक सीज।

ब्यूरो समाचार
रुड़की संवाददाता
कलियर थाना क्षेत्र के धनौरी में बृहस्पतिवार की शाम मुख्य चिकित्सा अधिकारी हरिद्वार अचानक एक निजी क्लीनिक पर जा पहुंची और छापामार कार्रवाई करते हुए उसे सीज कर दिया।
मिली जानकारी के अनुसार सीएमओ डॉ सरोज नैथानी शाम के समय धनोरी में पहुंची जहां सीएमओ ने ओबीसी बैंक के निकट आयुर्वेदिक नीरज नामक एक निजी क्लीनिक पर छापामार कार्रवाई करते हुए विभिन दस्तावेज खंगाले। इस दौरान चिकित्सक मौके पर न मिलने के कारण सीएमओ ने उन्हें फोन कर क्लीनिक पर बुलवाया ओर डिग्री व रजिस्ट्रेशन दिखाने को कहा, लेकिन चिकित्सक ने डिग्री तो दिखा दी लेकिन रजिस्ट्रेशन नही दिखा पाया, इसके साथ ही निरीक्षण में सीएमओ ने कई अन्य खामियां भी पाई, जिसके बाद सीएमओ ने पुलिस की मौजूदगी में क्लीनिक को सीज कर दिया। सीएमओ की इस कार्रवाई से अन्य निजी क्लीनिक संचालकों में हड़कंप मच गया और वह अपने-अपने प्रतिष्ठान बंद कर फरार हो गए। सीएमओ ने बताया कि चिकित्सक के पास डिग्री तो सही पाई गई लेकिन राज्य का रजिस्ट्रेशन नहीं मिला, जिस कारण यह कार्रवाई की गई। इस दौरान चौकी इंचार्ज एन.के. बचकोटी भी मौजूद रहे।
ज्ञात रहे कि धनौरी व आसपास के क्षेत्र में झोलाछाप चिकित्सकों की भरमार लगी हुई हैं और सीधे-साधे लोग उनकी चपेट में आकर अकाल ही काल का ग्रास बन जाते हैं।
वहीं दूसरी ओर रुड़की के निकट रामपुर गांव में आयशा हेल्थकेयर सेंटर नामक क्लीनिक पर भी सीएमओ ने टीम के साथ छापामार कार्रवाई की। इस दौरान सीएमओ ने चिकित्सक से अपनी डिग्री और रजिस्ट्रेशन दिखाने को कहा, लेकिन चिकित्सक कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पाया। इस पर सीएमओ ने उक्त निजी क्लीनिक को भी सीज कर दिया। सीएमओ ने बताया कि उक्त क्लीनिक पर जांच के दौरान गलत तरीके से मरीजों का ईलाज करना, अवैध रुप से प्रतिबंधित इंजेक्शनों को लगाने समेत कई खामियां पाई गई। जिसके बाद पुलिस टीम की मौजूदगी में उक्त निजी क्लीनिक को भी सीज कर दिया गया। देर शाम हुई सीएमओ की छापामार कार्रवाई से आस-पास के क्षेत्र के चिकित्सकों में हडकंप की स्थिति बनी रही। इस दौरान एसएसआई देवराज शर्मा के अलावा प्रशासनिक टीम मौजूद रही।

anupamsaini

Read Previous

ऊत्तराखण्ड/रुड़की:किसान हितों को लेकर प्रदेश सरकार गंभीर: राकेश राजपूत

Read Next

किसानों की समस्या दूर करने को सरकार के पास नही कोई नीति: चौ. ऋषिपाल अम्बावता